|| || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || भारतीय न्यूज़ वेब टीवी में आपका स्वागत है/ राष्ट्रीय ख़ोज न्यूज़ टीवी चैनल में आपका स्वागत है|| || देखिये देश- विदेश की मुख्य खबरें || ||WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || देखिये देश की ताज़ा एवं तेज तर्रार खबरें || || विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें || || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || ||

हरियाणा फार्मासिस्ट काउंसिल का वाइस प्रेसिडेंट गिरफ्तार, विजिलेंस ने हिसार में घर पर छापा मारकर पकड़ा, 42 हजार रुपए बरामद*

राणा ओबराय
राष्ट्रीय ख़ोज/भारतीय न्यूज,
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
हरियाणा फार्मासिस्ट काउंसिल का वाइस प्रेसिडेंट गिरफ्तार, विजिलेंस ने हिसार में घर पर छापा मारकर पकड़ा, 42 हजार रुपए बरामद*
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
हिसार ;- हरियाणा के हिसार जिले में विजिलेंस की टीम ने रविवार को सेक्टर-13 स्थित मकान नंबर 518 में छापामारी की। घर हरियाणा स्टेट फार्मासिस्ट काउंसिल के वाइस प्रेसिडेंट सोहन लाल कांसल का था, जिन्हें विजिलेंस ने गिरफ्तार कर लिया है। सोहन लाल कांसल से करीब 42 हजार रुपए बरामद हुए हैं। उन पर आरोप है कि फार्मासिस्ट का लाइसेंस बनवाने की ऐवज में पैसे लिए हैं। विजिलेंस सोहन लाल को पकड़ कर भिवानी ले गई है। उन्हें भिवानी की कोर्ट में पेश किया जाएगा।
बता दें कि हिसार विजिलेंस की टीम ने शनिवार को भिवानी के विद्यानगर कालोनी निवासी एक दलाल को 32 हजार रुपए के साथ रंगे हाथों पकड़ा था। हिसार के भागवी निवासी सत्यवान को अपने बेटे के लिए फार्मेसी के लाइसेंस की जरूरत थी। इस पर किसी ने कहा कि वह सुभाष से संपर्क करें। सुभाष ने 65 हजार रुपए की डिमांड की। सत्यवान ने इसकी शिकायत विजिलेंस को दी। सुभाष अरोड़ा ने 30000 गूगल पर से और 32000 रुपये नगद लिए।
विजिलेंस ने सत्यवान को 32000 रुपए के नोट दिए। इन नोटों पर पाउडर लगाया गया था।इसके बाद सत्यावान ने सुभाष से संपर्क किया। सत्यावान ने 32 हजार रुपए उसे पकड़ा दिए। राशि पकड़ाते ही विजिलेंस की टीम ने सुभाष को पकड़ लिया। सुभाष ने विजिलेंस को पूछताछ में बताया कि उसके संपर्क में सोहन लाल भी है। इसी आधार पर विजिलेंस ने सोहल लाल कांसल को पकड़ा है। विजिलेंस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज करके गिरोह के अन्य आरोपियों की धरपकड़ के लिए प्रयास शुरू कर दिए है। विजिलेंस की कार्रवाई के बाद काउंसिल के अन्य पदाधिकारी अंडरग्राउंड हो गए है। रिश्वत लेकर लाइसेंस बनाने का खेल पिछले काफी समय से चल रहा था। विजिलेंस के पास अधिकारियों की रिकार्डिंग के पुख्ता सबूत भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!