|| || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || भारतीय न्यूज़ वेब टीवी में आपका स्वागत है/ राष्ट्रीय ख़ोज न्यूज़ टीवी चैनल में आपका स्वागत है|| || देखिये देश- विदेश की मुख्य खबरें || ||WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || देखिये देश की ताज़ा एवं तेज तर्रार खबरें || || विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें || || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || ||

हजकां पार्टी बनाकर फ्लॉप नेता साबित हुए कुलदीप बिश्नोई का कांग्रेस में घटेगा मान-सम्मान! दूसरी पार्टियों में नही होगी राह आसान?*

राणा ओबराय
राष्ट्रीय ख़ोज/भारतीय न्यूज,
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
हजकां पार्टी बनाकर फ्लॉप नेता साबित हुए कुलदीप बिश्नोई का कांग्रेस में घटेगा मान-सम्मान! दूसरी पार्टियों में नही होगी राह आसान?*
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
चंडीगढ़ ;- राज्यसभा चुनाव में जिस तरह से कुलदीप बिश्नोई ने अपने वोट का प्रयोग या यूं कहे दुरुपयोग किया है उससे राजनीति में उनके ऊपर स्वार्थी नेता की मुहर लग गई है! इससे पहले भी एकबार कुलदीप बिश्नोई का कांग्रेस से मोहभंग हो चुका था। उन्होंने अपने पिता चौधरी भजनलाल के साथ मिलकर अपनी स्वयंभू पार्टी हरियाणा जनहित कांग्रेस का निर्माण किया था। पार्टी चलाने और संभालने में पूरी तरह फ्लॉप रहने के बाद विधायक कुलदीप बिश्नोई ने एक बार फिर राहुल गांधी दरबार में नतमस्तक होकर कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की थी। कांग्रेस ने उन्हें पूरा मान सम्मान देते हुए संगठन में उच्च पदों पर नियुक्त किया। पिछले कुछ दिनों में कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस से खफा पर नजर आ रहे थे क्योंकि वह खुद हरियाणा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनना चाहते थे परंतु कांग्रेस आलाकमान ने कुलदीप बिश्नोई को कांग्रेस अध्यक्ष ने बनाकर उदयभान को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेवारी सौंप दी। इसी कारण से कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस से खफा खफा नजर आ रहे थे या यह कहें कि वह कांग्रेस आलाकमान से सोदाबाजी करना चाहते थे। यही कारण है कुलदीप बिश्नोई को राहुल गांधी से मिलने का समय नहीं मिला। कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस में रहकर सिर्फ औपचारिकताएं निभाते हुए वोटिंग करने पहुचे। फिर उन्होंने जो किया वह सबके सामने है। यदि कुलदीप बिश्नोई की राजनीतिक भविष्य की बात करें तो वह आत्मघाती रास्ते पर जा रहे हैं क्योंकि कांग्रेस में उनका पहले वाला मान सम्मान नहीं रहेगा और दूसरी पार्टिया भाजपा और आप उनको वह तवज्जो नहीं दे सकती जो उन्हें कांग्रेस में रहकर मिल रही थी। यह भी साफ है कि अपनी पार्टी बनाना और चलाना बहुत मुश्किल कार्य है जिसका परिणाम वह पहले से देख चुके हैं। अब कुलदीप बिश्नोई राजनीति में किस करवट बैठेंगे यह तो उनको ही पता परंतु आज प्रदेश में उनकी साफ छवि को गहरा धक्का जरूर लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!