|| || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || भारतीय न्यूज़ वेब टीवी में आपका स्वागत है/ राष्ट्रीय ख़ोज न्यूज़ टीवी चैनल में आपका स्वागत है|| || देखिये देश- विदेश की मुख्य खबरें || ||WELCOME TO BHARTIYA NEWS || || देखिये देश की ताज़ा एवं तेज तर्रार खबरें || || विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें || || WELCOME TO BHARTIYA NEWS || ||

निदेशक हरियाणा स्वास्थ्य विभाग मुख्यमंत्री तथा स्वास्थ्य मंत्री के आदेशों की क्यो कर रहा है अनदेखी?*

राणा ओबराय
राष्ट्रीय ख़ोज/भारतीय न्यूज,
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
निदेशक हरियाणा स्वास्थ्य विभाग मुख्यमंत्री तथा स्वास्थ्य मंत्री के आदेशों की क्यो कर रहा है अनदेखी?*
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
चंडीगड़ ;- भाजपा पार्टी द्वारा आयोजित प्रत्येक कार्यक्रम में भाजपा कार्यकर्ता एक ही दुखड़ा रोते हैं कि हरियाणा की खट्टर सरकार पर अफसरशाही बुरी तरह से हावी है। जो सीएम औऱ मंत्रियो के आदेशों की धज्जियां उड़ाते रहते हैं। ऐसा ही मामला सामने आया है। हरियाणा के दबंग स्वास्थ्य मन्त्री ने रिक्त पद पर एक तृतीया श्रेणी के कर्मचारी के तबादला के लिए सीएम को अपना नोट भेजा। मुख्यमंत्री ने एक अक्टूबर (01/10/21) को तबादला करने के आदेश जारी करते हुए स्वास्थ्य मंत्री को फ़ाइल वापिस भेज दी। स्वास्थ्य मंत्री ने 4 अक्टूबर को तबादला करने हेतु निदेशक स्वास्थ्य विभाग को आदेश जारी कर दिए। खास बात यह है CM /HM ने दो MPHW कर्मचारियों के तुरंत प्रभाव से आदेश जारी करने के लिए कहा था। परन्तु आज तक आदेश जारी नही हुए हैं। विशेष बात यह है कि यह विभाग स्वास्थ्य मन्त्री के अधीन आता है। परन्तु स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर इस बात की जूं नही रेंग रही है। हरियाणा मुख्य सचिव ने आदेश जारी किए हुए यदि कोई बड़ा अधिकारी या कर्मचारी फ़ाइल को निपटाने में देरी करेगा तो सरकार उसके खिलाफ कार्यवाही करेगी? इसके विपरीत मुख्यमंत्री अथवा स्वास्थ्य मंत्री द्वारा जारी आदर्शों पर यदि अधिकारी 25 दिन तक अमल नही करते या संज्ञान नही लेते तो साफ जाहिर होता है कि अधिकारी हरियाणा सरकार पर हावी है? कहीं ऐसा तो नही हरियाणा के लोकप्रिय दबंग मन्त्री के अधीन उनके ही कर्मचारी उनकी प्रतिष्ठा को धूमल करने का प्रयास कर रहे हो? माना तो यह जाता है गब्बर के अधीन विभागो में कोई भी गड़बड़ करने की हिम्मत नही कर सकता। इसलिए जानबूझकर आदेशो की देरी से पालना करने के जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ सरकार को जरूर कार्यवाही करनी चाहिए?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!